name='verify-cj'/> चलते चलते: 2008

स्वागत

चलते चलते कुछ सुनिए और कुछ सुना जाइए।

Tuesday 16 December 2008

Lines for me

Sometimes a voice can help me through, much more than any song,
Sometimes a line will speed me on, when all else is going wrong,
Sometimes when troubled winds blow strong, when life is not worth a penny
Then I look to you for strength, as times before, they've been many.
When friends seem foes, when each face seems strange
When all my thoughts every day I must rearrange,
It's then I think of words you said from where much hope I've drawn
It's then I remember each new day that my life it is not forlorn.
"You are strong, you can fight."
The sky is blue, the clouds are white
When I search I know the day is bright.
My mind seems clouded and confused
I see things as if they are diffused.
I know there is a waiting light
I know it is merely out of sight
I must have faith in my own self
Or else, me, I cannot help.
I must not think that all is lost, I must not feel "I cannot",
I must do things I know I must, it's only time that I have bought.
I will work well because I know I can, not because it will make me a man
I think I'm worth it so I'll prove it well, not that otherwise I give a damn.
My life is mine, for me to lead
I am my source of energy
I am the sun, the ocean waves
I will not be anybody's slave.
I do not need to anybody prove
what I am made of, that is my own groove
I will strive to better my own self
to be there when others need my help.

Tuesday 9 December 2008

Troubled Times

When the going gets tough, they say that HE tests people who are strong.

“And may be you are very strong.” I didn’t know how to react, so I just accepted.



It’s been two weeks and I am still in a rut. I am losing my calm nature, did weird things, moped around feeling kind of bummed out, complained a little (which is more than usual since I rarely complains), didn't call home or family, didn't post on my blog and finally lost sight of the big picture and the importance of things. It pretty much sucked, but the good news is, it will get over some day!


Today I woke up and realized that there are only 21 days left for the next year and that's not too shabby. I still have some important work to do here and I've done great wok so far, so I'm happy (contrary to other people’s thought). And it's ok that I was in a little rut, everyone goes through them here, and if 20 days of de-motivation is it for me, I'll take it. However, it shall not continue…Today when I walked into the office something was different. Music was playing on VH1. I love music, pretty much all kinds but a particular song was playing that is also one of my mom and my favourite songs. "When The Going Gets Tough, The Tough Get Going" by Billy Ocean. It brought back such a great memory of when I was a kid and my mom and my friend Viru’s mom, took me, Viru, his sister and my sister to the movies one afternoon by the Chowkabha hall (if memory serves) to see one of my favourite movies, "Anand". I first heard this song in his jeep and mum explained it to me.

I guess just passing the unknown or known roads, working hard and going to the gym (only once) just isn't cutting it anymore, you need to think of creative ways to keep your mind active (Sana - I'm still reading your book). So for me that means that I'll listen to a stupid Billy Ocean song once in a while, or think of silly 80s trivia (if you guys know any obscure 80s songs, lemme know), or my personal favourites, sometimes late at night, when I'm the last one to sleep. I'll stay outside in the dark for 10 minutes blasting my phone and dancing to myself.

Thursday 31 July 2008

The ebb and a fall... someone said

When nothing seems to be working out right, when the heart is heavy and the soul weary, one tends to find solace in the recesses of one's memory. It is comforting to walk down memory lane, stop in front of your best friends' gate, chat a while and move on. It soothes the soul to remember a holiday, an event, a moment.

The sand beneath your feet is cold. The moonlight shimmers on the waves as they hurdle up to you, break at your feet, and silently slide back. The roar of the waves, the rustling of the coconut trees and the sounds of your breath are the only things that matter. The cool breeze plays on your skin as you pull your shawl closer around your shoulders. The nip in the air is welcome. It stirs the mind and dulls the soul. It stimulates the nerves as adrenalin rushes through your body. You know you can easily fall asleep on these shores as long as you can feel this.

You sit down on the cool sand. The waves rush up to you in a swell, and recede silently. They are speaking to you. They are telling you that good times will come again, as surely as the next wave will. They are coaxing you to wash your heavy heart one wave at a time, till you are cleansed like the sparkling beach. Time stands still as you sit on the sand, listening to the wisdom of the waves, the comfort of the breeze and the voices in the trees. You see the crabs scamper past as they dart across the freshly washed shore, making fresh patterns. You see fresh hope.

The angle of the shimmer on the water has changed. The moon seems higher in the sky. It has taken a while for you to understand the language of the waves. There is always an ebb and then a fall. The distance, the time between these is what is difficult. You can now lie down on the sand, and look up at the millions of stars in the crystal clear sky. Nowhere on earth can you see more stars than under this sky, in this thumbnail of the world. You can travel to Orion, to Pleades and to whichever other constellation you wish. You can reach for the stars, literally. And no distance matters anymore. Not between the ebb and the fall... not between you and the stars.

And that is where you find your peace, your corner in the world. That is when your step becomes lighter, your smile brighter.

Tuesday 8 July 2008

जिंदगी चलने का नाम है

After reading Jyoti Sanyal's obituaries....
There is only one single moment between life and death. So often, there isn't any time for goodbye's. Whatever you've left behind is all that there is; there may never be that final moment to set things 'right'. Somewhere, sometime, I remember someone telling me... There is no certainty in life, so live every minute as if its your last. Enjoy every moment of your life to the fullest, and don't regret what you couldn't do. Take life's simple pleasures seriously - a sunrise, the breeze on a hot day, the sound of waves as they crash against rocks, the smile of a friend, the tears through which the smile slips out.... Enjoy the laughter of the ones you love, the mischief of the little fellows even when you're tired, and remember that life is beautiful.... if you only let it be. Talk to the people who matter to you, and don't be afraid to tell the people who matter, that they do. Don't ever say, 'I'll do it tomorrow", for there may not be any tomorrow. And yesterday is history, so don't hold any grudges, and look forward to every new day. And you will die a happy man, you will die a free soul....
When there is only one life (that we will remember), live it in a way that you choose... there will always be people who will appreciate you only after you are gone, there will always be those that malign you, but be the man you would want to admire, and other's will surely admire you. Don't aspire to gain their admiration, you will only fall. Live to please yourself, while being considerate of others, and you will find that the world will make space for you.

Tuesday 1 July 2008

दक्षिण भारतीयों को बस एक ही नाम से जानते हैं "मद्रासी"

तीन साल पहले तक कर्नाटक, तमिलनाडु या केरल ये सब मेरे लिए बस एक नाम थे.मैप या सिर्फ़ चित्रों मे इन जगहों को देखा था और मन मे दबी सी एक हसरत थी कि कभी जाउँगा. तीन साल पहले दिल्ली मे जीवन संघर्ष जारी था कि एक मित्र
के ज़रिए कर्नाटक आने का मौका मिला. मुझे तब ज़रा भी इल्म नही था बेंगालुरू मुझे इतना कुछ देगा. करियर, एक नया जीवन, प्यार और बहुत कुछ. हम उत्तर भारत मे दक्षिण भारतीयों को बस एक ही नाम से जानते हैं "मद्रासी".शुरू के दो महीने रहने
के बाद ही मेरा परिचय दक्षिण के चारों राज्यों उनकी अलग अलग संस्कृति और स्वाद का सही मायनों मे पता चला. पिछले साल जब मेरा कोस्टल बेल्ट के सबसे खूबसूरत शहर मेंगालुरु मे ट्रान्स्फर हुआ तब ज़्यादा बुरा नही लगा क्यूंकी सारे मित्र बस कुछ घंटे
कि ही दूरी पर थे.बेगालुरु क़ी ज़िंदगी जहाँ तेज़ रफ़्तार और चकाचौध भरी थी वहीं मेगलूर एक शांत और अलसाया हुआ शहर लगा. क्राइम बेहद कम और महिलाओं को उन्मुक्त घूमने की आज़ादी. ट्रफ़िक नही और साफ सुथरी सड़कें जीवन को बेहद आसान बना देती हैं.
उत्तर भारत की सड़कों पर एक अज़ीब सा अग्रेशन रहता है. मेरा यकीन मानिए पूरे देश मे कर्नाटक से ज़्यादा सीधे साधे लोंग कहीं नही मिलेंगे.बेंगालुरू मे पैसे ने ज़रूर लोंगों को बदल दिया है पर कोस्टल इलाक़े मे आप कहीं भी जाइए लोंग खुले दिल
से आपका स्वागत करेंगे. मैं इलाहाबाद से बेहद प्यार करता हूँ पर मेगालुरु ने मुझे कभी प्रयाग क़ी कमी नही खलने दी. अगर आपको सामुद्री खाना पसंद है तो ये जगह गोआ से कम नही है. इतने अलग तरह के दोसे भी मैने कभी नही खाए
थे. अगर आप यहाँ आए तो कोरी रोटी ज़रूर खाएँ, ये यहाँ सबसे ज़्यादा खाया जाने वाला व्यंजन है. चिकन और लोकल मसालों क़ी ग्रेवी और साथ मे चावल क़ी रोटी, इसे ही कहते हैं कोरी रोटी. फिश फ्राइ और चावल आपको दुनिया में सबसे अच्छा यही
मिलेगा.और अगर खाने के बाद कोल्ड ड्रिंक पीने का मन करे तो आइडिया छोड़ दीजिए. होटल के बाहर निकालिए और पाँच रुपये मे ताज़े नारियल पानी का आनंद लीजिए.गोआ के सामुद्री तट जहाँ हमेशा भीड़ भरे रहते हैं वहीं मेंगलूर के बीचों पर आपको हमेशा
शांति मिलेगी. कई ऐसे तट हैं जहाँ मानव दखल ना के बराबर है. समुद्र जब शांत रहता है तो मछुआरों क़ी नौकाएँ दृश्य को और भी मनोरम बना देती है. और मेरी तरह अगर आप भी किसी मछुआरे से दोस्ती कर लें तो फिर आपको एक
यादगार नौका यात्रा का आनंद मिलेगा. मैने क्रूज़ यात्रा भी क़ी है पर मछुआरों के साथ बिताया दिन मेरी हर यात्रा से बेहतर है.यहाँ पर कई मशहूर धर्मस्थल हैं. मंगलदेवी मंदिर शहर के उत्तर मे स्थित है. ऐसी मान्यता है कि भगवान परशुराम ने यहाँ तपस्या
कि थी और उन्हे देवी ने दर्शन दिया था. दक्षिण के मंदिर बेहद साफ सुथरे और सुसंगठित होते हैं.इन्फैंट ईसा मसीह श्राइन मासीही समुदाय का सबसे बड़ा धर्मस्थल है. एक अनोखा शहर है ये, यहाँ आपको दीवाली और क्रिसमस दोनो पर्वों पर पूरा शहरसज़ा
मिलेगा. पुराने ब्रिटिश स्टाइल के बंगले अभी भी है और लोंग उन्हे बेहद सहेज कर रखते है. मौसम यहाँ पूरे साल सुहाना ही रहता है, बस मानसून कि बारिश लगातार होती है और आप इसे जितनी जल्दी अपने जीवन का हिस्सा मान लें उतना ही बेहतर.बेंगालुरू
को कर्नाटक मानने वालों को कोस्टल कर्नाटक कि यात्रा ज़रूर करनी चाहिए.

Wednesday 25 June 2008

व्यथित मन

संवेदना एड्स से पीड़ित बच्चों का अनाथालय है और इस संस्था से मैं पिछले एक वर्ष से जुड़ा हुआ हूँ. कल लगभग दो महीने के बाद वहाँ जाना हुआ जबकि मेरे घर से अनाथालय की दूरी सिर्फ़ तीन किलोमीटर है. किसे दोष दूं अपनी व्यस्तता को या नियति को.मन बहुत व्यथित था और कल इसी कारण कुछ लिखा भी नही. कल जाते ही मुझे जानकारी मिली कि पिछले दो महीनों मे चार बच्चे दुनिया छोड़ कर चले गये. इसनमे से दो मेरे प्रिय थे जिनके लिए मैं हमेशा क़ी तरह कुकीज़ ले कर गया था. खबर सुनकर मैं स्तब्ध सा वहीं खड़ा रह गया, क्या करूँ पल भर के लिए आँखों के सामने अंधेरा छा गया. उन बच्चों के चेहरे मुझे स्पष्ट दिखाई दे रहे थे, मैं उन्हे सुन पा रहा था पर यथार्थ में नही. इतना रोष मुझे अपने उपर कभी नही आया. मैं उनके जाने को तो नही टाल सकता था पर उन्हे कुछ पल खुशियों के ज़रूर दे सकता था. दोनो को ही मेरे साथ खेलना पसंद था. मुझे सहसा शशि क़ी बात याद आ गयी. अनाथालय क़ी देखरेख करने वाली इस महिला ने मुझसे एकबार कहा था, "ग़रीबी पैसों क़ी नही दिल क़ी है." उसका आशय था कि पैसे देने वाले तो बहुत हैं पर इन मासूमों के साथ समय बिताने वाले बेहद कम. आज मैं भी अपने आप को दूसरी श्रेणी मे पा रहा हूँ.इस झटके से उबर पता कि पता चला कि अनाथालय जिस भवन मे है उसे जल्द ही खाली करना होगा. कारण? इस भवन के आसपास रहने वाले अभिजात्य वर्ग को लगता है कि इन बच्चों के पड़ोस मे रहने से उन्हे भी एड्स का ख़तरा है. ये सारे पढ़े लिखे लोंग अनपढ़ों जैसी बातें क्यूँ करते हैं पता नही. नया घर इन बच्चों के लिए साल भर मे चौथा होगा. कुछ पत्रकार मित्रों क़ी मदद से इन बच्चों को सरकारी स्कूल मे दाखिला मिला था अब फिर से से आशा है क़ी कुछ होगा और इन बच्चों का घर नही छिनेगा. उन दो मासूमों के चहरे अभी भी मेरे मन मे छाए हुएँ है.

Monday 23 June 2008

आफ़िस से घर तक

एक दिन और ख़त्म और आज फिर घर जल्दी आ गया. एक मित्र ने कर्नाटिक संगीत की सी.डी भेंट की थी, इसे समझने की कोशिश जारी है. समझ मे कुछ खास नही आ रहा है पर एक कशिश है. किसी ने सही कहा है संगीत भाषाओं की सीमा से परे है. संगीत जब दक्षिण को है तो आज खाने मे भी सांभर ही सही रहेगा. कुछ लिख लूँ फिर सोचूँगा कैसे बनाना है. जैसा मैने कल लिखा था पोस्ट मे कि किसी का इंतज़ार है, इंतज़ार तो ख़त्म हुआ पर पूरी दुनिया ही उलट पुलट हो गयी है. मेरी ये मित्र जो एक बड़े अख़बार मे रिपोर्टर है ने सारा तानाबाना ही उलट दिया है. अब रिपोर्टर हैं तो ज़बान तेज़ होगी ही. क्या करूँ , कल तक मैं सोचता था कि मेरा घर काफ़ी दर्शिनिय है, समंदर के किनारे है. आज पता चला कि घर कैसे रखा जाता है. यकीन मानिए, मैं तो काफ़ी खुश रहता था कि मेरा घर अपने सभी पुरुष मित्रों के घर से स्वक्ष् रहता है. आज भ्रम टूट गया. घर लौटा तो लगा कि किसी दूसरी दुनिया मे हूँ. क्या सिर्फ़ महिला और पुरुष का अंतर है या सोच का? जिसे मैं साफ समझता था मेरी मित्र ने उसे कबाड़खाना करार दिया. क्या ये मान लेना सही है कि महिलाएँ तो पुरषों कि बराबरी हर जगह कर रहीं है पर पुरुष शायद ऐसा नही कर पा रहें है. आराम से लिख रहा हूँ क्यूंकी इन्हे हिन्दी नही आती नही तो दो घंटे कि बहस तो सामने थी समझिए. खैर मैने टाइम्स और ए.पी दोनो ही जगह महिला रिपोर्टर्स को काम करते देखा है और मुझे कोई तकलीफ़ नही है कहने मे कि वो बेहतरीन काम करतीं हैं.बस अब हमे ही कुछ आगे बढ़ना है. तो मैं नोट बनता हूँ कि क्या कैसे रखना है आपसे कल फिर बात होगी.

Sunday 22 June 2008

ब्लाग क्यूँ लिखते हैं?

ब्लाग क्यूँ लिखते हैं? कभी लगता है कि वक़्त क़ी बरबादी है, क्या फ़र्क पड़ता है अगर ना लिखूं तो. शायद किसी और को नही पर मुझे फ़र्क पड़ता है, एक ज़रिया है जहाँ मैं जो चाहूं लिखूं, जो मन मे है वो लिखूं. और अगर कोई पढ़ता है जिसकी सोच मुझसे मिलती है और भी अच्छा. पर मुझे ब्लॉग पर समाचार अच्छे नहीं लगते. कई ब्लॉग्स है जो देश और दुनियाँ के बारे मे लिखते हैं. कई अच्छी जानकारी भी देते हैं. पर कम ही ब्लॉग हैं जो जीवन को नज़दीक से देखतें है. इंडियन डाय्ररी उनमे से एक है. जब मैने ब्लॉग लिखना शुरू किया तो मकसद सिर्फ़ इतना था कि अपनी भाषा के नज़दीक रहूं. अँग्रेज़ी से जीविका चलती है और ब्लॉग मिट्टी से दूरी को कुछ कम करता है. रोज़ न्यूज़रूम के शोर के बाद जब घर के कंप्यूटर को खोलता हूँ तो एक ऐसी दुनिया से रप्ता होता है जहाँ आपको छूट है कि जो चाहे वो सुनो जो ना अच्छा लगे मत पढ़ो.कुछ अपनी कहो कुछ दूसरों क़ी सुनो. सुबह जब सोया था तो उजाला था और अभी शाम ढल चुकी है. इलाहाबाद के बेपरवाह दिनों मे शाम समोसे और चाय के साथ होती थी और साथ में पूरी यूनिवर्सिटी का समाचार अलग से.धीरे से चाय क़ी जगह काफ़ी और समोसे क़ी जगह पिज़्ज़ा ने ले ली और बतकही कहीं गायब ही हो गयी. ब्लॉग के बाद शायद बतकही फिर से वापस है. रोज़ क़ी तरह फिर से सोच ज़ारी है कि खाना बनाया जाय या ऑर्डर करूँ. खैर वो बाद मे देखूँगा, आज कोई घर आने वाला है. इंतेज़ार का अपना ही एक मज़ा है.इस भागमभाग में संडे किसी त्योहार से कम नहीं लगता और अगर पार्टी कि मेहमान नवाज़ी आपके सर हो तो मज़ा कुछ ज़्यादा ही होता है.

Saturday 21 June 2008

शाम और पंचम

आज वीकेंड के कारण ज़्यादा काम नही था तो घर जल्दी आ गया. एक दिन और ख़त्म, हर दिन की तरह कंप्यूटर आन किया और जब तक स्क्रीन जिंदा हो मैंफ्रिज से एक ड्रिंक निकाल लाया. इसे पहले की लिखना शुरू करूँ रोज़ की तरह विनैप प्लेलिस्ट पर आज हिन्दी सुनने का मूड हो रहा है. स्पीकर आन करते ही किशोर दा की आवाज़ गूँजती है, "वो शाम कुछ अजीब थी. " शाम बनाने के लिए एक बेहतरीन शुरुआत. अजीब सी कशिश है इन गीतों मे, ज़्यादातर लोंगो को तो ये पता होगा की किशोर दा ने गया है, शायद ये भी पता हो कि हेमंत कुमार का म्यूज़िक है, क्या ये पता होगा कि गुलज़ार साहब ने ये गीत लिखा हैं? शायद पता हो क्यूंकी बात गुलज़ार साहब कि हो रही है. अगला गीत है " गीत गाता हूँ मैं. "अब मैं अगर कहूँ मुझे नही पता ये गीत किसने लिखा है तो सही होगा. किसी गाने कि सफलता में सबसे ज़्यादा श्रेय गायक को मिलता है फिर गीतकार को शायद....... जाने कितने गाने है जो ज़बान पर रहतें है पर किसकी कलम से निकले हैं ये पता नही रहता. हमने गीतकारों को श्रेय देना बंद ही कर दिया है.जब तक एक और ड्रिंक लूँ तीसरा गाना "ये जीवन है." सुनाई दे रहा है. एक समय था जब हम दादाजी के रेडियो पर गीतमाला सुनते थे "फ़ौजी भाइयों कि पसंद पे ." हर गीत से पहले गीतकार का नाम आता था, गुलशन बावरा, आनन्द बक्शी, शैलेंद्र, फिराक हमे ज़बानी याद रहते थे. आज के एफ.एम रेडियो को शायद गीतकारों से कोई सरोकार नही है."कहीं दूर जब दिन ढल जाए." तो सबने सुना होगा पर इस गीत को लिखने वाले योगेश हैं ये कम ही लोंग जानते हैं. नीरज, गुलशन बावरा का क्या हुआ पता नहीं. गुलज़ार और जावेद अख़्तर को हम सब जानते हैं क्यूंकी वो गीतकार के साथ फिल्म निर्देशन और पटकथा लेखकभी हैं. बाहर बारिश ज़ोर कि है और सब्ज़ी भी पक चुकी है. मुझे इज़ाज़त दीजिए कि अपने पसंदीदा संगीतकार आर.डी बरमन के संगीत का आनंद लूँ.फिर कभी विस्तार से लिखूंगा.

Music...

आज वीकेंड के कारण ज़्यादा काम नही था तो घर जल्दी आ गया. एक दिन और ख़त्म, हर दिन की तरह कंप्यूटर आन किया और जब तक स्क्रीन जिंदा हो मैंफ्रिज से एक ड्रिंक निकाल लाया. इसे पहले की लिखना शुरू करूँ रोज़ की तरह विनैप प्लेलिस्ट पर आज हिन्दी सुनने का मूड हो रहा है. स्पीकर आन करते ही किशोर दा की आवाज़ गूँजती है, "वो शाम कुछ अजीब थी. " शाम बनाने के लिए एक बेहतरीन शुरुआत. अजीब सी कशिश है इन गीतों मे, ज़्यादातर लोंगो को तो ये पता होगा की किशोर दा ने गया है, शायद ये भी पता हो कि हेमंत कुमार का म्यूज़िक है, क्या ये पता होगा कि गुलज़ार साहब ने ये गीत लिखा हैं? शायद पता हो क्यूंकी बात गुलज़ार साहब कि हो रही है. अगला गीत है " गीत गाता हूँ मैं. "अब मैं अगर कहूँ मुझे नही पता ये गीत किसने लिखा है तो सही होगा. किसी गाने कि सफलता में सबसे ज़्यादा श्रेय गायक को मिलता है फिर गीतकार को शायद....... जाने कितने गाने है जो ज़बान पर रहतें है पर किसकी कलम से निकले हैं ये पता नही रहता. हमने गीतकारों को श्रेय देना बंद ही कर दिया है.जब तक एक और ड्रिंक लूँ तीसरा गाना "ये जीवन है." सुनाई दे रहा है. एक समय था जब हम दादाजी के रेडियो पर गीतमाला सुनते थे "फ़ौजी भाइयों कि पसंद पे ." हर गीत से पहले गीतकार का नाम आता था, गुलशन बावरा, आनन्द बक्शी, शैलेंद्र, फिराक हमे ज़बानी याद रहते थे. आज के एफ.एम रेडियो को शायद गीतकारों से कोई सरोकार नही है."कहीं दूर जब दिन ढल जाए." तो सबने सुना होगा पर इस गीत को लिखने वाले योगेश हैं ये कम ही लोंग जानते हैं. नीरज, गुलशन बावरा का क्या हुआ पता नहीं. गुलज़ार और जावेद अख़्तर को हम सब जानते हैं क्यूंकी वो गीतकार के साथ फिल्म निर्देशन और पटकथा लेखकभी हैं. बाहर बारिश ज़ोर कि है और सब्ज़ी भी पक चुकी है. मुझे इज़ाज़त दीजिए कि अपने पसंदीदा संगीतकार आर.डी बरमन के संगीत का आनंद लूँ. फिर कभी विस्तार से लिखूंगा.

Wednesday 18 June 2008

बारिश और सरगम


मानसून की तेज़ बौछारों ने मेर गहरी तंद्रा तोड़ी और मैं फिर से आज लिखने के इरादे से बैठा हूँ. क्या लिखूं ये नही पता, बस अनमने से मुसाफिर की तरह चलते ही जा रहा हूँ. बाहर बारिश की फुहारें अपने चरम पर है, जैसे उसे कोई जल्दी है, कोई उसकी राह देख रहा है. इस सुंदरी के ठीक उल्टा मैं एकदम शिथिल हूँ.बारिश सबको सुंदर लगती है पर मुझे क्यूँ आज कोफ़्त हो रही है. मैं क्यूँ इसकी तुलना किसी की असीम सुंदरता से नही कर पा रहा हूँ. बाहर रात जवान हो रही है और मैं ढल रहा हूँ. उधेड़बुन जारी है कि खाना बनाउ या ऑर्डर करूँ. खैर खाना बाद में देखेंगे अभी बस एक छोटी ड्रिंक से काम चलेगा.सोच जारी है, क्यू मुझे इन फुहारों मे सरगम नही सुनाई दे रही है है. शायद इसका खेल भी कुछ लाल रंग जैसा ही है, किसी दुकान पर लाल शर्ट मन को कितनी सुहाती है पर जब बाहर कि रोशनी मे देखो तो वही रंग भड़कीला लगने लगता है. बारिश का भी यही खेल है, अच्छा साथ और अच्छा खाना इन बूँदों को को एक एहसास बना देता है नही तो बस सब पानी ही है. क्या करू मंगलोर मे आजकल बारिश भी खूब हो रही है...

Friday 25 April 2008

फंडा चियर चियर का


कल रात से ही खबरों के हर माध्यम मे IPL चियर गर्ल्स का मुद्दा छाया हुआ है. राजनेताओं को ये बालाएँ देश की संस्कृति के लिए ख़तरा लग रहीं है.कल विभिन्न न्यूज़ चैनलों पर अवतरित हुए नेताओं को कम से कम मैने तो पहले कभी भी किसानों या किसी अन्य गंभीर मुद्दे पर बोलते नही देखा.आश्चर्य है कि सी.पी.आई के वरिष्ठ नेता डी. राजा भी भगवा ब्रिगेड की भाषा बोलते नज़र आए. छात्र जीवन से ही वामपंथ को समझा और जाना है. इलाहाबाद की सड़कों पर खूब नारे लगाएँ हैं.आज डी. राजा के विचार सुनकर कुछ अजीब सा लगा. कोई आश्चर्य नहीं कि एक हिन्दुस्तानी की डायारी वाले अनिल जी के लेख क्यूँ वामपंथ कि दूसरी ही परिभाषा देते हैं.IPL सिर्फ़ क्रिकेट नहीं मनोरंजन का साधन भी है. चियर गर्ल्स इसी मनोरंजन पैकेज का हिस्सा हैं, इन्हे यूँ ही नही निकाला जा सकता.IPL को शुरू हुए सिर्फ़ दो हफ्ते ही हुए हैं पर ICL के दो दौर पूरे हो चुके हैं. चियर गर्ल्स ने ICL में भी भागीदारी की थी. ना तो किसी नेता और ना ही किसी चैनल को तब इस मुद्दे की सुध आई. सवाल नैतिकता का कम और सस्ती लोकप्रियता का ज़्यादा है.IPL की हाइप ज़्यादा है और मूरे देश का ध्यान भी इसी टूर्नामेंट पर लगा हुआ है. ज़ाहिर है, इसके खिलाफ कोई बोलेगा तो सभी का ध्यान एक बार तो ज़रूर जाएगा. नेता भी कभी ये मौका छोड़ते हैं क्या.आम जनमानस मे तो मुझे कोई आक्रोश नही दिखाई देता. अंत मे तो जीत क्रिकेट की ही होती है. सभी को चौके और छक्के याद रहते हैं ना की बालाओं के लटके झटके.काश ये नेता इन मासूम लड़कियों को छोड़कर कुछ काम की बात करते. ये तो बस अपना काम कर रहीं हैं.

Sunday 20 April 2008

कौन बनेगा पत्रकार नंबर वन मे आपका स्वागत है


ज़माना रियल्टी शो का है. रियल्टी अब इतनी रेयर हो गयी है कि सिर्फ़ टी.वी पर दिखती है. हर एक हुनर अब टी.वी के ज़रिए तलाशा जा रहा है. गाने बजाने तक तो ठीक था, अब नेता भी बुद्धू बक्से से निकलेंगे. माफ़ कीजिएगा, एक नेता जी तो निकल भी चुके हैं. कहाँ है आजकल क्या कर रहे है? मैं भी कितना मूर्ख हूँ कि ये प्रश्न कर बैठा, अरे भाई चैनल का फ़ायदा हो गया और नेता जी भी काफ़ी समय तक टी.वी पर कई मुद्राओं मे भाषण देकर अल्पकालिक प्रसिद्धि पा लिए. अब हम लाख चिल्लाएँ कि भाई हम इतना एसमएसियाए थे हक है हमारा कि हम पूछे नेता जी कहाँ हैं. चिल्लाते रहो चैनल की बाला से. फिर से किसी और हुनरमंद की तलाश होगी और हम फिर से दूर ध्वनि यंत्र के शब्दकोष मे जाकर साक्षिप्त संदेश प्रतिभागी के कोड के साथ भेज देंगे. क्या गाता है, क्या बजाता है या कैसा बोलता है, इसकी किसको फ़िक्र है बस अपने प्रदेश का हों, इतना काफ़ी है. अरे यार अजीब सी उलझन है, हम क्या सारी ज़िंदगी एसमएसीयाते ही रहेंगे. हमे भी तो अपना हुनर दिखना है जनता को, वोट माँगना है. इतना सोच ही रहे थे कि अंदर से आवाज़ आई कि मियाँ कोई हुनर भी है आप में. पता नही कौन नामुराद अंदर से बोलता है पर जब भी बोलता है बात सच ही होती है. अंदर से आई आवाज़ ने अपनी बात फिर से कही, "मियाँ कभी गाना गाए भी हो, बस गर्मी के दिन मे स्नान के वक़्त गाते हो, जाड़े मे तो नहाते नही तो गाओगे कहाँ से." हमने सोचा बात तो सही है, एक बार कॉलेज मे गाया था तो सबने कसम दिलाई थी कि दोबारा हर काम करना पर गाना नही. ये अंदर वाले भाईसाहब को सब पता होता है. अब क्या करें? हमे तो सिर्फ़ खबरों कि दुनिया के दाँव पेच ही आते हैं. तभी एक ख़याल आया, अगर पत्रकार भी रियल्टी शो के द्वारा चुनें जाएँ तो कुछ चांस बनेगा.ज़रा सोचिए मंच जगमगा रहा है और एक सुंदर सी कन्या कहती है, "कौन बनेगा पत्रकार नंबर वन मे आपका स्वागत है." पहला दौर शुरू होता है. मंच पर एक से बढ़कर एक दिग्गज संपादक बैठे हुए हैं. सभी नये मुर्गो से कहा जाता कि स्टोरी आइडिया बताओ. पहला नंबर हमारा, हमने बड़े आत्मविश्वास के साथ कहा कि विदर्भ.............., बात पूरी भी नही हुई थी कि जजों ने स्कोर दे दिया 'अंडा'. शो का संचालन रही कन्या को हमारे उपर तरस आया तो उसने संपादकों से कहा कि इस नवयुवक को कुछ फीडबैक दें तो ये अगले दौर मे बेहतर करेगा.एक संपादक जिनका नाम ग़ज़ब शर्मा है बोले, "आमा यार तुम ये कौन सी पत्रकारिता पढ़ कर आए हो, इसी तरह बोलते रहोगे तो एक दिन अजायाबघर पहुच जाओगे. कोई भूत प्रेत वाली कहानी बताते तो मैं सुन भी लेता. पता है हमारे चैनल का नाम भारत टी.वी है."दूसरे संपादक जिनका नाम प्यार से साथियों ने दिया है, 'प्रचंड भूतनाथ स्टोरी वाले बाबा जी,' कुछ सोचकर वो बोले, "क्या यार तुम रखी सावंत को नही जानते क्या? फ़र्ज़ी स्टिंग कैसे करते है इसकी ट्रेनिंग तुम्हे नही दी गयी क्या? क्या खाक पत्रकार बन पाओगे. " तभी एक ज़ोर का म्यूज़िक बाज़ता है, और मुझे पीछे से कहा जाता है कि कुछ आँसू बहाओ और माफी माँगो. हमने कहा ई सब हमसे नही होगा. नेपथ्य से एक आवाज़ आती है, अरे यार स्क्रिप्ट मे है तो रोना पड़ेगा ही नही तो बाहर जाओ. ये थे शो के डायरेक्टर अनरियल कुमार.दूसरे नवजवान पत्रकार का नंबर आता है, वो बोलता है..., नही बोलता कम है और चापलूसी ज़्यादा करता है. इस नवजवान का नाम है प्रेतानंद. तो प्रेतनंद जी बोलते हैं, " सर मैं तो आप को ही देख कर बड़ा हुआ हूँ, आप क्या काम करते हैं सर, एकदम छा गये हैं. मेरे पास तो एक बेहतरीन आइडिया है. अगर हम कुतुब मीनार के बाहर प्रोजेक्टर लगा कर किसी का भूत दिखा दें और फिर बोलें कि वो एक प्रेमी कि भटकती हुई आत्मा है जिसे पुलिस ने फ़र्ज़ी मुठभेड़ मे मार गिराया था तो बेहतरीन स्टोरी बनेगी. सर मेरे पास तो काफ़ी सोर्स भी हैं, सब रंगकर्मी हैं और अच्छा अभिनय कर लेते हैं. इंस्पेक्टर से भी बात कर ली है बस उसे ५० सेकेंड तक टी.वी पर दिखाना होगा और आफीशियल बाईट का जुगाड़ भी हो जाएगा."पूरा हाल तालियों कि गड़गड़ाहट के साथ गूँज गया. प्रेतानंद को मिले दस मे दस. हमारा क्या हुआ? पढ़िए अगले अंक में, इसी ब्लॉग पर.

Saturday 19 April 2008

आई. पी.एल और बहन मायावती


IPL IPL IPL, हर तरफ यही हल्ला मचा है. गोया देश में और कुछ हो ही नही रहा है. अब तक १०० से ज़्यादा बार लोंगो को बता चुका हूँ कि 'भैया' लोंगो कि कोई टीम नही है. बस मन मे ही कई नाम लिए घूम रहे है, लखनऊ नवाब, प्रयाग चैलेनज़र और ना जाने क्या क्या. अजीब सा धर्मसंकट है, हर किसी के पास एक पहचान है.ऐसा हो गया ही कि अगर आपकी कोई टीम नही है तो समझो आप आउटडेटेड हैं. अगला बंदा तरस ख़ाके बोलता है कि कोई बात नही यार अगर यू.पी कि टीम नही है तो तू मेरी टीम को सपोर्ट कर ले . इतना गुस्सा आ रहा है बहन मायावती पर, एक टीम खरीद लेती तो का हो जाता भाई. अरे अभी ताजमहल के अलावा कई चीज़ें हैं यू.पी में बेचने को. अबकी जन्मदिन पर IPL चंदा का नियम हो जाता तो क्या बुरा था. मुलायम भाई भी नही सुन रहे, अनिल अंबानी जी से गहरी दोस्ती है, उनही से कह के एक टीम का जुगाड़ फिट कर देते तो अगले चुनाव मे अच्छा चांस रहता. अब बड़ी मुश्किल हो गयी है आफ़िस जाने में, विदेशी भाई लोंग भी एक एक टीम चुन लिए हैं और लगा रहे है नारा. खुन्न्स खाए हुए हमने अपनी माताश्री फोन किया और पूछा जल्दी बताओ कि क्या हमारे ख़ानदान में कोई मोहाली, बंगलूर, बंबई, दिल्ली, या चेन्नई से है क्या.जवाब आया, कोई प्रतापगढ़ और इलाहाबाद के बाहर से नही आया है और तुम चेन्नई कि बात कर रहे हो. अफ़सोस, ये आप्शन भी गया. तभी एक मित्र ने आइडिया दिया कि जो खिलाड़ी सबसे ज़्यादा पसंद हो उसी कि टीम के साथ तुम भी हाल्लियाओ. ये आइडिया भी फेल, शोएब अख़्तर पसंद हैं, पर वो तो पाकिस्तानी तमाशे का शिकार हो गये हैं. हे राम, पहला मैच आ भी गया और हम अभी भी धर्मसंकट मे थे. लेकिन पहले मैच ने ही हमे दिशा दिखाई, अब कर्नाटक में है तो ज़्यादा लोंग बंगलूर को ही चीयर कर रहे थे, हमने आदतन उल्टी राह पकड़ी और कोलकाता के लिए लगे चिल्लाने. प्रयास व्यर्थ नही गया और हम जीत गये. आहा अब पहचान है हमरे पास, कोरबो, लोरबो, ज़ीतबो रे. आप लोंगो का क्या हाल है?

Friday 18 April 2008

Laal Salam in Nepal


The jury over Nepal general election is out.
Proving all the predictions wrong, the Nepalese Congress (Mao) has registered a landslide victory. Led by charismatic leader Prachanda, the latest entrant in Nepal politics has sent a stunner to major political players of Nepal. After the poll results, while Prachanda was quick to announce the end of monarchy in Nepal, opposition parties were busy licking their wounds. In the face of it, opposition parties are now left with no other choice than joining the new government led by the Maoists Congress of Nepal.
The history of red march in Nepal is full of twist and turns. In the shadow of monarchy in Nepal, Prachanda decided to take the roads never taken in the history of the country. He had the dream of monarchy-free Nepal, even if it required bloodshed. For more than two decades the Maoists fought for the cause giving and taking lives.
Initially, the government and Narayanhiti palace managed to outcast the rebel fighters as terrorists. In the two decades of killings from both the sides, the cause, the reason and the sacrifices of the red brigade never came out.
Up to an extent, the Maoists are themselves to be blamed for this. Their leaders barely came out from the hiding and the government managed to dub them as a force greedy for money and power.
After the tragic end of the most celebrated King Virendra Vikram Shah and his rule in 2001, Nepal found itself into the certain sea of uncertainty. Major political parties ended up mere puppets in the hands of the new king Gyanendra and the public good held no value in the agenda of the new government.
Inflation was soaring and the prices were on the rise, it was a perfect time for Prachanda and his force to mouth the voice of the common man. He grabbed the opportunity and managed to shed the image of a ‘bloodthirsty’ unit. This was the time when Prachanda evolved as a leader of the masses and decided to play active role in politics. He got a fair share respect in the politics and played an important role in installing the new guard in Nepal in 2006. However, the west countries and political pundits in India never gave him the thumbs-up and underplayed his potential.
Now after proving all the odds wrong, the Maoists will have a task to prove. They will have to break the myth that they can only fight and running a nation is beyond their wings.
Nevertheless, it is time to say ‘Lal Saalam’ in Nepal.

Tuesday 15 April 2008

Life Goes On

After reading Jyoti Sanyal's obituaries....

There is only one single moment between life and death. So often, there isn't any time for goodbye's. Whatever you've left behind is all that there is; there may never be that final moment to set things 'right'. Somewhere, sometime, I remember someone telling me... There is no certainty in life, so live every minute as if its your last. Enjoy every moment of your life to the fullest, and don't regret what you couldn't do. Take life's simple pleasures seriously - a sunrise, the breeze on a hot day, the sound of waves as they crash against rocks, the smile of a friend, the tears through which the smile slips out.... Enjoy the laughter of the ones you love, the mischief of the little fellows even when you're tired, and remember that life is beautiful.... if you only let it be. Talk to the people who matter to you, and don't be afraid to tell the people who matter, that they do. Don't ever say, 'I'll do it tomorrow", for there may not be any tomorrow. And yesterday is history, so don't hold any grudges, and look forward to every new day. And you will die a happy man, you will die a free soul....

When there is only one life (that we will remember), live it in a way that you choose... there will always be people who will appreciate you only after you are gone, there will always be those that malign you, but be the man you would want to admire, and other's will surely admire you. Don't aspire to gain their admiration, you will only fall. Live to please yourself, while being considerate of others, and you will find that the world will make space for you.

Friday 11 April 2008

रंगों की दुनिया

एक घुटन सी होती है. सब कुछ रुका सा लगता है. मन में एक अज़ीब सा अंतर्विरोध है. अंदर से एक आवाज़ चीख चीख के कहती है कि इस मायाजाल को समाप्त करो. सब रेत पे पड़े पानी की तरह है कब उड़ जाएगा पता नही. सब तरफ एक अज़ीब सी बनावट है और हर चीज़ रंगी हुई है. कुछ देखना है तो रंग कुरेदना होगा पर कैसे? ये रंग तो चिपक गया है और निकलता ही नही. इन रंगो की बेरंग होली मे हम भी कही गहरे डूबे नज़र आते हैं. मन कहता है चल रे अपने देश, जहाँ रंग लगेगा भी तो कम से कम मिट्टी की महक तो साथ होगी. मन मे उत्साह होता है पर कदम साथ नही देते. इन कदमों को शायद मायावी दुनिया की ज़्यादा समझ है. ये अर्थशास्त्र के आकड़ों को बेहतर समझतें हैं. मन कहता है भाड़ मे जाए अर्थशास्त्र और मायाजाल अपनी तो खाक गंगा किनारे ही लिखी है. मन के बस मे शरीर नही है और आज के युग का सच भी शायद यही है. मेरे अंदर ये अंतरयुद्ध चलता रहता है, जाने क्यूँ आज लिख दिया.

Friday 4 April 2008

रक्तदान और हिन्दी ब्लॉगजगत


हमारे देश मे हर दिन हज़ारों लोंग वक़्त पर खून ना मिल पाने के कारण काल के गाल मे समा जाते हैं. आप सोच रहे होंगे आज तो विश्व रक्तदान दिवस नही है,फिर मैं इस मुद्दे पर बात क्यूँ कर रहा हूँ. आज एक मित्र के लिए रक्तदान करने अस्पताल जाना हुआ. मैने अपना फ़र्ज़ समझा और रक्तदान किया. इसी आपाधापी में मैने इमरजेंसी वार्ड मे एक परिवार को रोते देखा. पूछताछ करने पर मालूम हुआ की की मरीज़ की हालत बेहद खराब है और खून की सख़्त ज़रूरत है. मुझे लगा की कुछ करना चाहिए पर क्या समझ नही आ रहा था. मैने तुरंत ही रक़्तदान किया था और फिर से करना संभव नही था. इसी उधेड़बुन मे था की तीन लड़के वाहा आए और उन्होने कुछ पूछताछ की और कहा की वो कोशिश करते हैं. एक घंटे के अंदर तीन डोनर अस्पताल आ गये. मैने जा कर उन लड़कों से बात की और पूछा की क्या वो किसी संस्था से जुड़े हुए हैं? उन्होनें कहा किसी एनजीओ से तो नही पर कोंकणी साहित्य और नाटक के प्रचार प्रसार के लिए कुछ १०० लोंगो का उनका एक ग्रूप है. उन्होने सब सदस्यों को फोन किया और डोनर आसानी से मिल गये.मैने सोचा की काश मैं भी किसी ग्रुप से जुड़ा होता तो कुछ मदद की जा सकती थी. किसी और मुद्दे पर जब मैने पोस्ट लिखने की सोची तो दिमाग़ मे ज़ोर से घंटी बज़ी की मैं भी तो तो हिन्दी ब्लॉग जगत से जुड़ा हुआ हूँ. हमारे इस परिवार के सदस्य देश के कोने कोने मे हैं. मेरा एक सुझाव है की अगर हम सब अपने ब्लॉग मे परिचय के साथ साथ अपना रक्त समूह भी लिख दें तो ये एक नेक काम होगा. हिन्दी ब्लॉग जगत की चर्चा आज तक कई विवादो के कारण होती रही है. अगर हम एक डेटाबेस बना पाएँ तो ये एक उदाहरण होगा.ये मेरा निजी विचार है और शायद हर कोई सहमत ना हो पर कोशिश करने क्या हर्ज़ है. रवि रतलामी, चिट्ठाजगत और ब्लॉगवानी के संचालकों से मेरी अपील हैकी वो देंखे की ये डेटाबेस कैसे और कहाँ बनाया जा सकता है.

Wednesday 26 March 2008

ब्रिटिश मीडिया ने कराई प्रिन्स हैरी को आफ्गानिस्तान कि यात्रा


मीडिया अगर जनता को ये बताए की वो उन्हे पूरा सच नही बताएगा तो स्थिति विकट हो जाएगी. कुछ ऐसा ही ब्रिटेन मे हुआ. ब्रिटिश मीडीया ने एक डील के तहत प्रिन्स हैरी की आफ्गानिस्तान मे तैनाती की खबरें लोगों तक नही पहुचाई. पूरे विश्व में मीडिया आर्थिक दबावों से घिरा हुआ है और अगर ऐसी डील की जाती रही तो मीडिया को संकुचित होने में समय नही लगेगा. इस तरह के बेमानी फ़ैसलो से पत्रकारों और और समाज दोनो का ही घाटा होगा. ये मेरे लिए चिंता का विषय है. इस डील से ब्रिटिश मीडिया ने अपनी हालत सरकार के लिए कम करने वाली पी.आर एजेन्सी जैसी कर ली. आप कहेंगे की अगर ब्रिटिश मीडिया ने ऐसा किया तो ग़लत क्या है? आख़िर प्रिन्स के आफ्गानिस्तान मे होने की ख़बरे बाहर आ जाती तो उनके साथ कई फ़ौजियों की जान को ख़तरा हो सकता था. सही है, मीडिया को राष्ट्रीय त्रासदी के समय सरकार का साथ देना चाहिए. पर इस मामले मे तो कोई त्रासदी नही थी. प्रिन्स हैरी को आफ्गानिस्तान जाने की कोई आवश्यकता नही थी. उनकी वहाँ उपस्थिति से ब्रिटिश फौज की सफलता के आकड़ों मे कोई खास फराक तो नही पड़ा.उनके लिए बहादुरी की बात तब होती जब वे अपनी व्यक्तिगत इच्छाएँ पूरी करने की जगह साथी जवानों की सुरक्षा का ख़याल करते. सरकार को पता था की प्रिन्स की वार ज़ोन मे तैनाती से जवानों की जान जाने का ख़तरा बढ़ जाएगा पर फिर भी उन्हे भेजा गया. इसका विरोध करने की जगह मीडिया ने सरकार का साथ दिया. जिस तरह से प्रिन्स के वार ज़ोन छोड़ने के वीडियो और चित्र मीडिया में आए उससे साफ हो गया की सब कुछ पहले से तय था. सरकार के लिए तो दीवाली मन गयी, प्रिन्स को वार ज़ोन के दर्शन भी करा दिए और हीरो भी बना दिया. इन सबके बीच किरकिरी मीडिया की हुई. अपने बचाव में मीडिया ने तर्क दिया की प्रिन्स असली वार ज़ोन से दूरी पर थे. फिर उन्हे हीरो क्यूँ बना दिया? इसी से साबित हो जाता है की सब कुछ एक ड्रामा था.अगर इसी तरह की घटनाएँ होती रही तो वो दिन दूर नही जब लोंग मीडिया का विकल्प तलाशने में जुट जाएगें. ब्लॉग इस समय सबसे सशक्त विकल्प है. प्रिन्स हैरी की तैनाती की खबर भी सबसे पहले एक ब्लॉग पर ही आई थी.

Monday 24 March 2008

पानी का पत्रकार- एक प्रेरणा


२० मार्च को हमने विश्व जल दिवस मनाया। जल से जुड़े मुद्दों पर इस दिन मीडिया मे कई रोचक खबरें आती है। इस बार भी लगभग हर चैनल (नौटंकियों को छोड़ के) पर कुछ खबरें आई। ब्लॉग जगत में भी कुछ रोचक लेख पढ़ने को मिले। मेरा दिमाग़ कुछ धीरे और अपने सुर ताल से काम करता है, सो ये पोस्ट २० मार्च की जगह आज आ रही है। जहा मीडिया में पर्यावरण से जुड़ी खबरों का आकाल रहता है और ग्रीन पत्रकारों को कम ही बोलने और लिखने का मौका मिलता है, एक पत्रकार ऐसा भी है जो पूरी तरह से पानी से संबंधित मुद्दों को उठाने में सालों से लगा हुआ है। Shree Padre, इन्हें हम पानी का पत्रकार भी कह सकते हैं। श्री का गाँव मंगलूर और कासरगोड के बीच पड़ने वाली हरी भारी वादियों मे स्थित है। ये गाँव भी Western Ghat की कई खूबसूरत वादियों के तरह मनोहारी है।यहाँ लोंग जीविकोपार्जन के लिए खेती पर निर्भर हैं। भारत के इस हिस्से में पान और सुपारी की खेती जम के होती है। श्री का परिवार भी लंबे अरसे से खेती मे ही रचा बसा है। १९८५ में वनस्पति शास्त्र मे पी.जी करने के बाद जब श्री अपने गाँव लौटे तो उस वक़्त खेती की हालत बेहद खराब थी। किसानों के पास जानकारी का अभाव था, ऐसे समय में श्री नें पत्रकारिता को चुना। श्री ने 'आडिके' नाम से एक पत्र निकालना शुरू किया और देखे ही देखते ये पत्र किसानो के बीच लोकप्रिय हो गया। किसानों के पास अब खेती की ताज़ा और अच्छी जानकारी मौजूद थी। तब से शुरू हुआ ये सिलसिला आज भी जारी है। पिछले कुछ वर्षो से श्री पानी से संबंधित समस्याओं पे लगातार रिपोर्टिंग कर रहे हैं। उनके नियमित लेख अँग्रेज़ी और कन्नड़ की पत्र पत्रिकाओं मे आते रहते हैं। rain water harvesting को श्री पानी की कमी की समस्या से निपटने का सबसे महत्वपूर्ण साधन मानते है। श्री के शब्दों मे ये एक साइंस है और इसपे और शोध किया जाना चाहिए। किसानो के लिए समर्पित श्री कहते हैं मेन स्ट्रीम मीडिया में किसानों के लिए कम ही जगह है। श्री ने एक वेब पोर्टल को दिए साक्षात्कार मे कहा, "Those who grow never write; those who write don't grow". 'आडिके पत्रीके' ने नयी तकनीक और पुराने आज़माए हुए कृषि नुस्खो को western ghat के लगभग हर किसान तक पहुचा दिया है। आज 'आडिके पत्रीके' के ७५ हज़ार से ज़्यादा पाठक है। श्री ने उस मिथक तो तोड़ दिया की सफल अख़बार सिर्फ़ धनाढ्य घराने ही चला सकते हैं।
श्री की राह इतनी आसान नही थी, कुछ किसान जो पढ़ नही सकते उन तक समाचार कैसे पहुचेया जाए ये एक समस्या थी। श्री ने एक नायाब तरीका निकाला, उन्होने रिपोर्टरों की एक टीम बनाई जो की जो किसानो को चौपाल लगाकर जानकारी देने लगी। ये तरकीब काम कर गयी और अनपढ़ किसानों को भी सार्थक पत्रकारिता का लाभ मिलने लगा। श्री ने कई किताबें भी लिखी हैं।मेरा प्रयास है की श्री के साथ एक इंटरव्यू किया जाय। आशा है वो समय देंगे और ब्लॉग पर उनका साक्षात्कार शीघ्र उपलब्ध होगा। श्री के बारे में और जानने के लिए ये लिंक देखे---
http://www.worldproutassembly.org/archives/2006/02/the_rain_man_of.html

Sunday 23 March 2008

बोलो जय जवान और भूल जाओ


२३ मार्च, १९३१ को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फाँसी दी गयी थी। आज इन शहीदों की पुण्यतिथि से जुड़ी कुछ खबरें चैनेलों पर रुक रुक के आ रही हैं। अख़बारों मे कुछ कोने रंगे गये है। ब्लॉग जगत मे भी कुछ हलचल है। मुद्दा हर मंच पर यही है की हम अपने शहीदों का सम्मान नही करते, उनके नाम पर पार्क और पुतलों आदि का निर्माण तो कर दिया जाता है पर कोई देखभाल नही करता। सही है, आज चिंता कर ली कल ख़त्म। फिर से किसी शहीद की पुण्यतिथि आएगी और फिर रंगे जाएगें कुछ काग़ज़। ठीक ही तो है, जब हम अपने जवानों की चिंता नही करते तो फिर शहीदों की चिंता कौन करे। हमारे जवान बुरी हालत में काम करते है। आप कहेंगें सेना में तो काफ़ी आधुनिकरण हुआ है, सच है, पर ज़्यादा तर हथियारों और युद्ध अभ्यास पर खर्च किया जाता है। अगर एक जवान की बात करे तो उसका वेतन आज भी ६ से ७ हज़ार रुपये ही है। एक नज़र डालते हैं हमारे पड़ोसी मुल्कों के जवानो को मिलने वाले वेतन पर।श्री लंका की आर्मी के एक जवान को ३०,००० रुपये का आरम्भिक वेतन मिलता है. ( source- http://www.groundviews.org/). पाकिस्तान के जवानों को भी भारतीय जवानो से दोगुना वेतन मिलता है। लगातार दबाव में काम करने वाले जवानों की अक्सर अपने अफसरों से कहासुनी हो जाती है। 'जवान ने अफ़सर की हत्या की' , ऐसी खबरें अब आम हो गयी है। सेना के रहनुमा कहते है की जवानो को तनाव से मुक्ति दिलाने के लिए विशेष कदम उठाए जा रहे है, योग आदि। अच्छा है, करना चाहिए पर वेतन के बारे मे कोई कुछ नही कहता है। सुभाष चंद्र बोस ने कहा था 'तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आज़ादी दूँगा', लाखों नवजवान नेता जी के आवाहन पर सेना में शामिल हो गये थे। आज के युग में सबकुछ बाज़ार तय करता है, ऐसे में अगर जवान तनाव में है तो उसकी हालत समझी जा सकती है। अगर वेतन अच्छा मिले तो कम से कम अपने परिवार को सुख दे पाने की खुशी मे ही ये सैनिक खुश रह सकते है। अगर अफसरों की बात करे तो यहाँ भी स्थिति कोई खास अच्छी नही है। आज भी भारतीय सेना में अफसरों के ११,२०० पद खाली हैं। आम तौर पर भारतीय अफ़सर सेना से ३०, ४० या ५० से ६० की उमर में रिटायर होते है। सरकार के पास पेंशन देने के अलावा कोई और योजना होती नही। कार्पोरेट सेक्टर भी इन अफसरों के प्रति उदासीन रवैया ही रखता है। सेना मे बिताए गये समय का अनुभव किसी भी कंपनी के लिए फ़ायदेमंद हो सकता है। पर जमाना तो यंगीस्तान का है तो इन अफसरों को कौन पूछे।अगर अमेरिका जैसे देशो में कंपनियाँ ऐसा रवैया दिखाए तो सरकार उनके खिलाफ कदम उठा सकती है। भारत मे तो सरकार के पास कितने ही काम है, ऐसे तुच्छ काम के लिए समय कहाँ है। हमेशा की तरह मीडिया भला ये मुद्दा क्यूँ उठाए, बिकने वाला न्यूज़ आइटम थोड़े ना है। आप भी सोचेंगे क्या सिनिकल आदमी है पर इस देश मे कौन नही है?

Saturday 22 March 2008

होली विद कुरकुरे एंड पेप्सी


जौन सा भी चैनल देखो होली है, ब्लॉग देखो तो होली है। हमे लगा हमही सबसे अभागे है, सब होलिया रहे है और हम इडली डोसा चबा रहे है। हमारे अपने शेट्टी साहब सुबह सुबह मिल गये और दे डाली होली की बधाई। हमने स्वीकारी और आगे बढ़ गये। सुबह से कई ब्लॉग पढ़े , सब पे होली की कोई ना कोई कहानी चल रही है। हमने कहा असल में ना सही, ब्लॉग पे ही होलिया लेते है। पर कुछ सूझ नही रहा था की क्या लिखे। भला हो शेट्टी साहब का की हमे पोस्ट लिखने का कारण मिल गया। १ बजे के आस पास वो बोले होली तो आपका बड़ा त्योहार होता है। हमे कोफ़्त हो रही है की आप अकेले बैठे हैं। जाने कहा से आज इस उत्तर भारतीय के उपर उन्हे प्यार आया और बोले चलिए आपको होली के एक कार्यक्रम में ले चलते है। हम चौंक गये, मंगलूर में होली? खैर गये। नज़ारा देखिए, हमारे कुछ सहियोगी (सभी दक्षिण भारतीय और कुछ विदेशी) जमा है होलियाने। हमने कहा यार हमे तो किसी ने बताया नही की कोई कार्यक्रम है। पता चला सुबह से बुद्धू बक्सा देखते देखते शेट्टी साहब को लगा की कुछ करना चाहिए। तो, ये कार्यक्रम उनके दिमाग़ की उपज थी। किया क्या जाय किसी को नही मालूम। हमने कहा चलो हम ही पहल करते हैं। ये क्या, ना तो कीचड़ है, ना रंग से भरा कोई टैंक, न कोई बालीवुड गाना, ना कबीरा। अब भैया इन सबके बिना तो कभी होली खेले नही थे। का करते, कुछ गुलाल उठाया और सबको लगा दिया। अब का करे, तभी किसी को अड़ीया आया गाना गाते है। शुरू हुआ, गाना वो भी अँग्रेज़ी। हम भी सोचते रहे, ई कौन सा होली है भाई। गाना वाना ख़तम हुआ, हम सोचे शायद अब भांग लाई जाएगी। ई का, कुरकुरे का पैकेट और पेप्सी निकली। पेप्सी हाथ मे लिए याद आ गयी लोकनाथ की कपड़ा फाड़ होली की, घर की बनी गुझिया, बड़े हनुमान जी के पास मिलने वाली भांग की। कार्यक्रम ख़त्म हुआ और चल पड़े घर की ओर। कुछ गर्व था की हम भी कह सकते है की एक बार होली सभ्यता से मनाई थी। पर होली का मतलब क्या असभ्य होना होता है? पता नही काफ़ी लोंग तो कहते है, पर हमको तो उही इलाहाबादी वाली होली ही पसंद है। कोई असभ्य कहे तो ठेंगे से। अंत मे सबको होली की शुभकामनाएँ और हमारे सभी सहियोगियो को कुरकुरे वाली होली के लिए धन्यवाद।

एक पत्रकार की कहानी





हम भारतीय मीडिया की आलोचना या तारीफ (गाहे बगाहे) करने में मगन रहते है। मेरी कोशिश है कुछ ऐसी कहानियों को सामने लाने की जो प्रेरणास्त्रोत हैं। इसी कड़ी में आज बात करते है कनेडियन क्राइम रिपोर्टर Michel Auger की। माइकल ने क्राइम रिपोर्टिंग के नये कीर्तिमान स्थापित किए है। ९० के दशक मे कनाडा में क्राइम अपने चरम पर था और इसी समय माइकल ने Canada Le Journal de Montreal अख़बार मे क्राइम रिपोर्टिंग को नये आयाम दिए। ख़ासकर बाइकर गिरोहों का आतंक सबसे ज़्यादा था। माइकल ने लगातार इनके खिलाफ रिपोर्टिंग की और कइयों का पर्दाफाश किया। ज़ाहिर है कई दुश्मन भी बनाए। रोज़ की तरह काम से लौट रहे माइकल को १३ सितंबर, २००० को गोलियों से भून दिया गया। ६ गोलियाँ शरीर मे धसने के बाद भी माइकल ने अपने स्टाफ को रिपोर्ट किया और घटना की जानकारी दी। शायद उन्हे इस खबर की महत्ता का अंदेशा रहा होगा। ऐसी जीवटता वाले इंसान बेहद कम होते है। चार महीने तक अस्पताल मे इलाज कराने के बाद माइकल अपने डेस्क पर वापस थे और जो उन्होने कहा वो मैं यहा चिपका रहा हू। "I realised I had to go back to work, that it wouldn't be a crminal who decided the date of my retirement." इस घटना के बाद माइकल ने अपने परिवार से वादा किया की वो फिर से क्राइम बीट पर वापस नही जाएगें पर एक हफ्ते बाद माइकल वही कर रहे थे जिसके लिए उन्हे जाना जाता है। माइकल ने क्राइम रिपोर्टिंग और इस घटने के उपर The biker who Shot Me शीर्षक से एक किताब लिखी है। मैं इसे हर पत्रकार को पढ़ने की सलाह दूँगा। माइकल ने अपनी पुस्तक मे कहा है की क्राइम रिपोर्टिंग वार रिपोर्टिंग से भी कठिन है क्योंकि ये कभी ख़तम नही होती। माइकल सहित सारे क्राइम रिपोर्टर्स के ज़ज़्बे को सलाम।
Michel Auger के बारे में और जानने के लिए ये लिंक देखें-- http://www.cpj.org/attacks00/americas00/Canada.html

Thursday 20 March 2008

सलाम जिंदगी

कितने लोंग है इस दुनिया में जो अपने कंफर्ट ज़ोन से निकल कर समाज और दुनिया के लिए कुछ करना चाहते हैं। हम सब सोचते तो है पर असल मे कर गुज़रने वाले बेहद कम होते हैं। रेचल कोरी एक ऐसा ही नाम है, २३ वर्षीय इस अमेरिकन लड़की ने जो किया वो एक मिसाल है। बचपन से ही रेचल को मानवीय संवेदनाओं की गहरी समझ थी। दस साल की उमर मे इस नवजवान के शब्द उसकी जीवटता और समझ को दर्शाने के लिए काफ़ी है । स्कूल के कार्यक्रम में रेचल ने ये शब्द कहे थे, " We have got to understand that they (third world countries) dream our dreams and we dream theirs.We have got to understand that we are them and they are we."विश्व शांति के लिए कुछ कर गुज़रने की चाह रेचल को हिंसाग्रस्त इज़राईल और फ़िलिस्तीन बॉर्डर तक ले आई। इज़राइल के फ़िलिस्तीन के कुछ हिस्सों पर 'अनैतिक' क़ब्ज़े के खिलाफ रेचल ने आवाज़ उठाई। इस आवाज़ को बुलंद रखनें की कोशिश में १६ मार्च, २००३ को रेचल की मृत्य हो गयी । गाज़ा मे फैले आतंक के लिए कौन ज़िम्मेदार है, ये आज भी बहस का मुद्दा है। कई अमेरिकन संस्थाओं ने रेचल के फ़िलिस्तीन के लिए संघर्ष करने के फ़ैसले को ग़लत ठहराया। पर सवाल ये नही है की इस नवजवान ने किसके लिए संघर्ष किया, ज़रूरत है तो उसके जज़्बे को सलाम करने की। रेचल के बारे मैं खुद ज़्यादा ना लिख कर उसके कहे गये कुछ शब्दो को चिपका रहा हूँ, आशा है ये शब्द हर एक के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बनेगें. रेचल ने ये शब्द गाज़ा में बिताए गये दिनों के दौरान कहे थे. "I should at least mention that I am also discovering a degree of strength and of basic ability for humans to remain human in the direst of circumstances - which I also haven’t seen before. I think the word is dignity. I wish you (Rachel's mother) could meet these people. Maybe, hopefully, someday you will." ---

रेचल के बारे मे और जानने के लिए ये लिंक देखें.
http://www.guardian.co.uk/world/2003/mar/18/israel1

Monday 17 March 2008

अतुल्य भारत


स्कारलेट मर्डर केस की रिपोर्टिंग ब्रिटिश मीडिया ने जबरदस्त तरीके से की, पिछले दो हफ्तों में लगभग हर बड़े अख़बार के पहले पेज पर रहा है ये केस। सनसनी फैलाने के लिए मशहूर ब्रिटिश टॅब्लाइड्स ने इस खबर को जम कर उछाला। कुछ ने गोआ सरकार को दोषी बताया तो कुछ ने स्कारलेट के अभिभावकों को। क्या इस केस का असर भारत के इनक्रेडिबल इंडिया कैंपेन पर पड़ेगा? पिछले कुछ सालों में भारत मे आने वाले विदेशी सैलानियों की संख्या मे काफ़ी इज़ाफा हुआ है। कुछ तो है गोआ मे जो सैलानियों को लगातार अपनी ओर आकर्षित करता है। अकेले 2007 के आकड़ों को देखे तो कुल 2.2 मिलियन सैलानियों नें गोआ भ्रमण किया। 1970 के दशक मे गोआ हिप्पी कल्चर के केंद्र के रूप मे उभरा, समय के साथ इस कल्चर को अपनाने वाले तो कम हुए पर गोआ की पहचान जस की तस रह गयी। आज भी विदेशी सैलानी इसी चाह मे गोआ चले आते है। अब सवाल ये उठता है की सैलानियों को गोआ और देश के अन्य कोनों मे सुरक्षा कैसे प्रदान की जाए।अगर जवाब जल्दी नही खोजा गया तो शायद इंडिया इनक्रेडिबल नही रह जाएगा और छोकरे अपना काम करते रहेंगें। विदेशी मीडिया की माने तो भारत सुरक्षित नही है। गोआ मे हुई एक घटना को पैमाना बनाकर पूरे भारत को नाप दिया गया। कार्यालय मे जब एक सहयोगी ब्रिटिश पत्रकार ने भी चिंता जताई तो हमनें कहा विश्व के हर कोने मे ऐसी घटना होती रहती है। हालाँकि इस तर्क को सफ़ाई के रूप में नही लिया जा सकता है। यक़ीनन स्कारलेट की जान जाने की ज़िम्मेदार गोआ सरकार और पोलीस है। आशा यही है की पोलीस और सरकारें कुछ सख़्त कदम उठाएँगी। कुछ बदमिज़ाज़ भारतीयों के कारण पूरे देश को शर्मसार नही होना पड़ेगा।

Sunday 16 March 2008

ग़रीबी पैसों की नही दिल की है।

एड्स का नाम आते ही एक सिहरन सी पैदा होती है। हम सब बस खुश हो लेते हैं की उपर वाले ने हमें बचाए रखा है, और कुछ दुखी भी हो जाते है उनके लिए जो इस भयानक बीमारी के शिकार हैं। बस हो गयी हमारी चिंता ख़त्म। कुछ ऐसी ही सोच थी मेरी, पर जिस दिन इस बीमारी से ग्रसित छोटे छोटे बच्चों से सामना हुआ तो अपने उपर बहुत क्रोध आया। कुछ समय पहले काम के सिलसिले में मैंगलूर स्थित एड्स से पीड़ित बच्चों के अनाथालय जाना हुआ। काम था एक ऐसी डॉक्युमेंटरी बनाने का जिसके ज़रिए कुछ फंड उगाहा जा सके। काम के दौरान ही एक कर्मचारी की बात ने मुझे झकझोर कर रख दिया। मैने कहा हम कर ही क्या सकते है इन बच्चों के लिए, ज़्यादा से ज़्यादा कुछ पैसे दे सकते है। उसने जो उत्तर दिया वो मैं वैसा ही लिख रहा हूँ, " सर ग़रीबी पैसों की नही ग़रीबी दिल की है, पैसे देने वाले तो बहुत है पर इन बच्चों के साथ समय गुजारने वाले बेहद कम। ये बच्चे सिर्फ़ कुछ समय चाहते है, कोई इनके साथ आए और खेले।" हम अपनी दुनिया मे मस्त जीते है, इंटेलेक्चुयल टाइप जमाने भर की चिंता लिए। ज़्यादा हुआ तो कुछ चर्चा कर ली और चिंता जाहिर कर दी। जिस अनाथालय की मैं बात कर रहा हू उसका नाम 'संवेदना' है। संवेदना से अब मेरा गहरा नाता है, हर हफ्ते वाहा जाने की कोशिश करता हू। ना तो मैं उनकी भाषा समझ पता हू ना वो मेरी, पर एक रिश्ता है। अगर हम अपनी व्यस्त ज़िंदगियों से कुछ समय निकाले तो कितनी खुशियाँ बाँट सकते हैं। संवेदना के बारे में आगे भी लिखता रहूँगा।

हॉकी और टेलीविज़न


इंडियन हॉकी टीम बीजिंग ओलंपिक से बाहर हो चुकी है और मीडिया भी अब तक काफ़ी हाय तौबा मचा चुका है। हर किसी को शिकायत है इंडियन हॉकी संघ अध्यक्ष के.पी.एस गिल से, मीडिया की माने तो गिल साहब को हटाने से हॉकी को फिर से पुनर्जीवित किया जा सकता हैं। मीडिया की इस कयावाद से हमेशा गुमनामी में खोए रहने वाले हॉकी दिग्गजों को मौका मिला जनता के सामने आने का, और उनमे से काफ़ी ने गिल साहब को खूब धोया। अभी मामला गरम है इसलिए मीडिया की हाँव हाँव चालू है। हालाँकि किसी भी चैनल ने चिली मे होने वाले महत्वपूर्ण मैच से पहले कोई 'खास प्रोग्राम' नही दिखाया, और ना तो किसी चैनल के खेल संवाददाता (मैं कहूँगा क्रिकेट संवाददाता) चिली मे मौजूद थे। यकीन मानिए दो हफ्तों बाद ना तो हॉकी और ना ही हॉकी दिग्गज मीडिया मे नज़र आएँगे, होगा तो सिर्फ़ इंडियन प्रिमियर लीग का शोर। तो, हॉकी की इस दुर्दशा का दोषी कौन है? हॉकी संघ तो सबसे उपर है ही पर हम आप और मीडिया भी कम दोषी नही है। 2003 में जब भारतीय टीम ने एशिया कप और चॅंपियन्स ट्राफी शानदार तरीके से जीती तो लगा हॉकी रास्ते पर है। इतना ही नही हेलसिंकी मे भी भारत ने अच्छे खेल का प्रदर्शन करते हुएदूसरा स्थान प्राप्त किया। दीपक ठाकुर, गगन अजीत सिंह, जुगराज सिंह, अर्जुन हल्लापा, और वीरेन रास्क़ुइन्हा जैसे कितने ही खिलाड़ियों को इन बड़ी जीतों के बाद बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। क्यों? मीडिया ने पूछा नही तो किसी ने बताया नही, मामला ख़तम। हाल ही मे एक खबर पढ़ी की भारतीय हॉकी कैप्टन प्रबोध तिर्की को दिल्ली के एक होटेल में रात छत पर गुज़ारनी पड़ी, कारण उनके लिए रूम बुक नही था। बैंगलूर मे रिपोर्टिंग के दौरान उन्हे इंटरव्यू करने का मौका मिला, मैने इतना सरल इंसान कभी नही देखा, इसलिए कोई हैरानी नही हुई जब उन्होनें किसी से इस घटना की शिकायत नही की। हम क्रिकेट टीम की विश्व कप से असमय विदाई तो आसानी से भूल जाते हैं पर हॉकी टीम को एक हार के बाद खारिज करने लगते हैं। आख़िर ऐसा क्या है जो क्रिकेट हर खेल से उपर है, कारण जानने के लिए बात करते है अस्सी के दशक के शुरुआती वर्षों की। भारतीय क्रिकेट टीम ने विश्व कप जीता और लगभग उसी समय भारत में कलर टेलीविज़न का उदय हुआ। भारतीय हॉकी टीम के इतिहास के सबसे बुरे दिनों की पटकथा भी इसी दौर मे शुरू हुई। जहाँ हॉकी अपने उतार पर थी तो क्रिकेट का नशा परवान चढ़ता गया। कारण साफ है, टेलीविज़न की चमक दमक का फ़ायदा उठाने मे हॉकी पीछे रह गयी। हमारा राष्टीय खेल पीछे होता गया और क्रिकेट आगे। बाज़ार उसे ही चुनता है जो बिकता है, सो स्पॉन्सर्स भी क्रिकेट के साथ हो लिए। वापस 2008 में, इस हार से पहले हमने कभी हॉकी के लिए हाय तौबा नही मचाई, कभी कोई रिपोर्ट नही आई की हमारे खिलाड़ी किस तरह से तैयारी करते हैं। क्या हमें हक है हॉकी टीम के इस प्रदर्शन पर कुछ भी कहने का? शायद ही कोई आम आदमी या हमरे खेल पत्रकार मौजूदा हॉकी टीम के पूरे सदस्यों के नाम गिना पाएँगें। अगर हमनें 2003 में आवाज़ उठाई होती तो आज हमारी टीम ओलंपिक पदक की दौड़ मे शामिल होती। ये बात मैं पूरे विश्वास से कह सकता हू, नीचे दिए गये लिंक को देखें तो शायद आप भी कह पाएँगे। http://www.bharatiyahockey.org/yuvasena/

Tuesday 11 March 2008

बी पी ओ और शेट्टी साहब

आज सुबह की सैर के बाद शेट्टी साहब के मिज़ाज़ कुछ बदले हुए नज़र आ रहे थे। हमने गुस्ताख़ी माफ़ कहते हुए पूछ ही लिया, क्या हुआ कुछ मूड खराब है क्या? इतना सुनते ही शेट्टी साहब बरस पड़े, बोले आमा यार आजकल की पीढ़ी को हो क्या गया है, सब सब के सब नलायक है। हमने कहा बात क्या हुई ये तो बताओ। पता चला पार्क मे आज कुछ लड़कों से बहस हो गयी थी, शेट्टी साहब गुस्से से बोले, पता है पत्रकार महोदय ये नौजवान समझते है की बिना बीपीओ और टेक कंपनियों के मंगलोर पिछड़ा हुआ था। बिना मैकडोनल्ड और पिज़्ज़ा हट के भी कोई शहर होता है क्या? कुछ नौजवान आज पार्क मे इसी मुद्दे पर बात कर रहे थे और अपने शेट्टी मियाँ आदत के अनुसार कूद गये बीच मे बहस करने, और जब नयी उमर के लड़कों ने पटखनी दे दी तो तुनक कर घर वापस आ गये। बेचारी बीवी को उनके कोप का शिकार बनना पड़ता पर आज निशाने पर हम थे। बोले आप मीडिया वाले तो कुछ मत बोलिए, कभी रायचुर या गुलबर्गा की खबरें छापते हो? किसानों का क्या हाल है, इससे तुम्हे क्या मतलब बस मंगलोर और बंगलोर का नगाड़ा पिटो। मैने कहा, सर ऐसा नही है आज का मीडिया बड़ा जागरूक है, गुस्से में लाल होकर बोले क्या खाक जागरूक हैं तुम्हारा मीडिया, नाग नागिन की कहानी दिखाते रहते हो। हमने सोचा की वो मीडिया की और भद्द पिटें बात घुमा दी जाए। हमने कहा क्या ग़लत है, अगर नौजवानों को रोज़गार मिल रहा है, हमे बी पी ओ को और प्रोत्साहन देना चाहिए। जल्द ही पता चल गया की फिर से निशाना ग़लत लगा है, अबकी बार गुस्से से सतरंगी होकर बोले, तुम्हे क्या पता की वो सारे पुराने सिनेमा हाल और सागर कैफ़े की कीमत जिनकी जगह मालों और ब पी ओ ने ले ली है, कभी वहाँ कन्नड़ साहित्यकारों और बुद्धजिवियों की मंडली लगा करती थी। पुरानें दिनों की याद ने शायद शेट्टी साहब को कुछ ठंडा कर दिया था, एक लंबी सांस ली और बोले हम कर भी क्या सकते है, बस तमाशबीन बने रहेंगें। मैने सोचा मामला गरम हो रहा है तो तो फिर कुछ नयी बात उठाई जाए। यूँही पूछा क्या खबर है आज अख़बार में? आज दिन ही खराब था, फिर से गुस्से में बोले, वही राज ठाकरे की पार्टी का तमाशा, इसको भगाओ उसको भागाओ, अरे कोई बी पी ओ को भागने का तरीका तो बताए।इससे पहले की वो मेरी तरफ निशाना साधते मैने कहा कुछ काम है आप से शाम को मिलूँगा।

Sunday 9 March 2008

ग्रेट अमेरिकन ड्रीम

द टेलीग्राफ में छपी एक खबर ने ग्रेट अमेरिकन ड्रीम के बारे में सोचने पर मज़बूर कर दिया है. खबर के अनुसार अमेरिका में सैलाब के बाद पुनर्निर्माण कार्य में लगे भारतीय मज़दूरों की दशा अत्यंत दयनीय है. अमेरिका में एशिया के मज़दूरों की मानवाधिकारों के लिए लड़ाई जारी है. हमारे टीवी वालों ने अमेरिका के चुनावों पर तो खूब गला साफ किया, पर इस खबर को समय देना शायद घाटे का सौदा रहा होगा. पिछले कुछ महीनों में भारतीय प्रोफेशनल्स और छात्रों की हत्या की खबरें लगातार आती रहीं हैं. क्या ग्रेट अमेरिकन ड्रीम धुंधला हो रहा है खबर का पता--http://www.telegraphindia.com/1080308/jsp/foreign/story_8994936.jsp

Friday 7 March 2008

शुभारंभ

कई दिन सोचने के बाद आज ब्लॉग शुभारंभ करने की ठानी, रवि रतलामी जी के ब्लॉग से किसी तरह हिन्दी टाइपिंग के औज़ार प्राप्त किए और सोचा एक पोस्ट लिखी जाए. चूँकि आज ब्लॉग शुरू कर रहा हू, तो एक शुरुआत के बारे ही मे बताता हू. बात है सन 2005 की, शुरुआत मेरे पत्रकार बनने की. कॉलेज से पढ़ाई पूरी करने के बाद एक बड़े अँगरेज़ी अख़बार मे पूरे जोशो खरोश के साथ पहुचा काम करने. आखों मे सपना था कुछ नया करने का और दुनिया बदल देने का, गौर फरमाइए ये सपना हर पत्रकारिता के छात्र का होता है. पहले ही दिन मुझे इस बात का आभास हो गया की साहब ये तो कुछ अजब ही मायाजाल है. काम दिया गया एक खबर को पठनीय बनाने का, खूब दिल लगा कर किया और अंत मे खूब खुश था की कॉलेज मे सीखी सारी तकनीकी बातों का आज प्रयोग किया है. फिर एडिटर महोदया ने अपने केबिन मे बुलवाया और ऐसा झाड़ा की सारा जोश जाता रहा, कहा तुम लोंग क्या सोचते हो की कॉलेज मे पढ़ लेने से पत्रकार बन जाओगे, कई साल लग जाते है सीखने में. अगले दिन वही खबर अख़बार मे देखी तो लगभग वैसे ही छपी थी जैसी हमने बनाई थी. अब हम सोंच मे थे की क्या हमारी ग़लती है की हमने कॉलेज मे सीखा. आज से दस साल पहले पत्रकारिता पढ़ाने वाले कॉलेज कम थे पर जब आज है तो हमारे आदरणीय एडिटर्स को अपनी धारणा बदलनी होगी. ये सही है की अनुभव के साथ ही रंग चढ़ता है , पर अगर पत्रकारिता के छात्रों को आदर से देखा जाए तो निशित ही परिणाम बेहतर होंगे और ज़्यादा से ज़्यादा युवा इस पेशे को अपनाएँगे.